China ने भारत में बनाई अपनी Cyber Army, डेटा चुराने के साथ लोगों से की 150 करोड़ की ठगी

नई दिल्ली: आज हम आपको जो खबर दिखाने जा रहे है ये खबर देखना आपके लिए बेहद जरूरी है. क्योंकि भारत के अंदर चीनी नागरिकों ने एक ऐसी साइबर आर्मी तैयार कर ली है जो आपके घर के अंदर तक घुस चुकी है. वो ना सिर्फ आपके मोबाइल का डेटा चुरा (Mobile Data Hack) सकती हैं, बल्कि आपकी गाड़ी कमाई को भी लूटना चाहती हैं. इसलिए आपको सावधान करना हमारा फर्ज है कि कभी भी जल्दी पैसे कमाने के चक्कर में किसी भी ऐप को डाउनलोड कभी ना करें.

सबसे बड़ी साजिश का खुलासा

कोरोना वायरस (Coronavirus) को चीन की देन समझा जाता है. जब भारत समेत दुनियाभर के कई देश इस महामारी से जूझ रह थे, वहां लॉकडाउन लगा हुआ था. बाजार, दफ्तर सभी कुछ बंद थे. उस दौरान भी कुछ चीनी भारत के लोगों को ठगने की अपनी शातिर चाल चल रहे थे. इन शातिर चीनियों ने घरों में बंद लोगों को ठगने का एक अनोखा तरीका ढूंढ निकाला. चीन में बैठे 5 से 6 चीनी नागरिकों ने पावर बैंक, लाइटनिंग पावर बैंक, सन फैक्ट्री, ईजी प्लान, पॉकेट वॉलेट नाम से पांच चीनी एप बनाए, और इनको यूट्यूब चैनल, टेलीग्राम चैनल से डाउनलोड कर उसमें कुछ पैसे निवेश कर 24 दिनों में पैसा दोगुना करने का लालच दिया गया. अपनी साजिश को अंजाम देने के लिए इन लोगों ने बेहद की शातिर तरीके से अपने मंसूबो को पूरा करने के लिए देश के ही लोगों का इस्तेमाल किया.

ये भी पढ़ें:- हर 6 महीने पर लेने होंगे कोरोना वैक्सीन के बूस्टर डोज? WHO ने दिया ये जवाब

सोशल मीडिया पर पॉपुलर हो चुकी थीं ऐप

दिल्ली साइबर सेल के डीसीपी अनियेश रॉय ने बताया कि, ‘हमें सोशल मीडिया पर पॉपुलर हो रहे कुछ ऐप पर शक हुआ. जब उनकी जानकारी निकाली गई तो हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ. जिसके बाद इन ऐप से संबंध रखने वालों को गिरफ्तार कर लिया गया. ये सारे लोग चाइनीज नागरिकों के कहने पर काम कर रहे थे. एकाउंट खुलवा रहे थे. कंपनियां खुलवा रहे थे और उनका कस्टोडियल बनकर इस तरह की गतिविधियां कर रहे थे. साइबर सेल को कुछ ऐसे लोगों के बारे में भी हमे पता चला जो इनको सीधे तौर पर नहीं जानते थे वो इनसे यूट्यूब और टेलीग्राम चैनल के जरिए उनके संपर्क में आए और उनको इन लोगों ने इस काम के लिए देश के अलग अलग कौनो में भर्ती किया.’

150 करोड़ से ज्यादा ठग विदेश भेजा पैसा

अभी तक कि जांच में पुलिस को पता चला है कि चीनी ऐप के जरिए 150 करोड़ से ज्यादा की ठगी को अंजाम देने के बाद पैसों को विदेश भेजा जा रहा था. पुलिस को अभी तक सिर्फ ठगी के शिकार हुए 2 पेमंट गेटवे से 5 लाख लोगों का पता चला है. जबकि अभी यूपीआई के जरिए भेजे गए पैसों की डिटेल आनी बाकी है. कम ही समय मे ये चीनी एप कितना लोकप्रिय हुआ इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि बेहद ही कम समय मे इस एप को 50 लाख से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया था. पावर बैंक नाम का ऐप प्ले स्टोर के टॉप फाइव एप में शामिल हो गया. पुलिस को अपनी जांच में पता चला कि ये एप जिस डिवाइस में डाउनलोड हो रहे थे उसका डेटा चोरी कर रहे थे. जिसके सर्वर बाहर था. अपनी जांच के बाद दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने दिल्ली एनसीआर समेत कई जगहों पर एक साथ रेड की और 11 लोगों को गिरफ्तार किया, गिरफ्त में आए लोगों में 2 सीए भी है, जिन्होंने शैल कंपनियां खुलवाने में मदद कर मोटा पैसा वसूला जा रहा था.

ये भी पढ़ें:- सावधान! कोरोना के बाद नई मुसीबत ने दी दस्तक, तेजी से बढ़ रहा बहरे होने का खतरा

110 सेल कंपनियां बनाकर चीनियों को बेचीं

गुरुग्राम के रहने वाले सीए अविक केडिया ने 110 सेल कंपनी बनाकर चीनी नागरिकों को ट्रांसफर कर दीं. वो एक कंपनी के 3 लाख रुपये लेता था, जबकि एक चार्टेड अकाउंटेंट रौनक बंसल दिल्ली का है. डीसीपी के अनुसार, ‘जब हमने मनी ट्रेल को देखा तो पता चला जो पैसा है वो पेमेंट गेटवे से होते हुए बहुत सारी शेल कंपनी में जा रहा था और करोड़ो रुपया अलग अलग अकॉउंट में जा रहा है और फिर मनीलांडरिंग के जरिए 25 के आसपास शेल कंपनी और उनके बैंक अकॉउंट में भेजा जा रहा है.’

24 दिन में पैसा डबल करने का दिया लालच

लोगों को ठगने के इस अनोखे मॉडल को कुछ इस तरह से डिजाइन किया गया कि जो भी इन चीनी एप को डाउनलोड करेगा उसको 300 रुपये से लेकर लाखों रुपये निवेश करने पर उसकी रकम 24 दिनों में दोगुनी हो जाएगी. लोगों का भरोसा जीतने के लिए ये लोग निवेश की गई रकम का 10 प्रतिशत उसी समय उसके अकाउंट में ट्रांसफर कर देते थे. कुछ दिनों तक निवेश करने वाले लोगों को पैसा मिलता. लेकिन बाद में ये लोग उनको पैसा भेजना बंद कर देते. 

ये भी पढ़ें:- दिल्ली में जल्द होगा अनलॉक-3 का ऐलान, जिम-सिनेमा हॉल समेत इन्हें मिल सकती है छूट

5 लाख से ज्यादा लोग हुए ठगी का शिकार

पुलिस के मुताबिक, 5 लाख से ज्यादा लोगों ने इन एप पर निवेश किया जिन्हें करीब 150 करोड़ रुपये से ज्यादा का चूना लगा. पुलिस ने 97 लाख रुपये कैश बरामद किया है. पैसे क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से विदेश भेजे जा रहे थे. पुलिस का दावा है कि ये ऐप करीब 50 लाख से ज्यादा लोग डाऊनलोड कर चुके हैं. ऐसे में ठगी के शिकार लोगों की संख्या बढ़ेगी और ठगी की रकम 250 से 300 करोड़ तक हो सकती है.

150 करोड़ की ठगी का जासूसी कनेक्शन

अब सवाल उठता है कि क्या चीन भारत के लोगों से ठगे गए पैसों का इस्तेमाल भारत के ही खिलाफ जासूसी करने में कर रहा है? पुलिस की जांच अब इसी एंगल पर घूम गई है. साइबर सेल ने इस केस में एक ऐसे बड़ी कंपनी के मालिक को गिरफ्तार किया है, जिसने अपने कर्मचारियों के नाम से 2 हजार 700 सिम कार्ड चीन (China) भेजे थे. ये कोई ओर नहीं बल्कि नोएडा में स्थित अंतरराष्ट्रीय टेलीकॉम कंपनी एसजी टेलीकॉम के मालिक सतेंद्र सिंह हैं. जांच में पता चला है कि इनमें से कई सिम कार्ड का चीन से ठगी में इस्तेमाल हो रहा है. 

ये भी पढ़ें:- भारत में लॉन्च हुई 8 एयरबैग वाली 5 सीटर कार, बटन दबाते ही ऑटोमेटिक हो जाएगी पार्क

18 लाख में हुआ 2700 सिम कार्ड का सौदा

पूछताछ में सतेंद्र ने पुलिस को बताया कि उसकी कंपनी विदेश जाने वाल लोगों को अंतरराष्ट्रीय सिम कार्ड मुहैया कराती है. इसी बीच उसे 2700 सिम कार्ड भेजने का ऑर्डर मिला, जिसके बदले उसे करीब 18 लाख रुपये दिए गए. यानी एक सिम कार्ड के बदले करीब 600 रुपये. हालांकि अब साइबर सेल ये पता लगाना चाहती है कि आखिर ऐसी क्या वजह थी कि सतेंद्र ने 2700 सिम कार्ड खुद की कंपनी के कर्मचारियों के नाम एक्टिवेट कराकर बिना केवाईसी भेज दिए. फिलहाल सतेंद्र पुलिस की रिमांड पर है.

LIVE TV





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *