सवालों के घेरे में ऋषभ पंत: गावस्कर ने पंत के खराब शॉट पर आउट होने की आलोचना की, बोले- उन्होंने केयर-फ्री होकर नहीं, बल्कि केयरलेस बैटिंग की

  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Sunil Gavaskar Criticize Rishabh Pant In WTC Final, Says Pant Has At Times Breached The Line Of Carefree And Careless

साउथैम्पटन22 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गावस्कर ने कहा कि पंत की बस एक समस्या है और वह है शॉट सिलेक्शन। इसके अलावा वह एक शानदार बल्लेबाज हैं।

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में टीम इंडिया को विकेट कीपर बैट्समैन ऋषभ पंत से काफी उम्मीदें थीं। पहली पारी में वे कुछ खास नहीं कर सके और 4 रन बनाकर काइल जेमिसन की गेंद पर स्लिप में टॉम लाथम को कैच थमा बैठे। जब भारत की दूसरी पारी आई, तो सभी फैन्स पंत के ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस साल सिडनी और गाबा में किए गए कमाल को याद कर उनसे काफी उम्मीद लगाए बैठे थे।

पंत ने उसे पूरा भी किया, पर 41 रन पर वे एक गैर-जिम्मेदाराना शॉट लगाकर आउट हो गए। भारत के पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने इसकी आलोचना की है। गावस्कर ने कहा कि पंत ने केयर-फ्री नहीं, बल्कि केयरलेस तरीके से बैटिंग की।

”पंत ने कई मौके पर लापरवाही से बल्लेबाजी की”
गावस्कर ने कहा कि केयर-फ्री होकर खेलने और केयरलेस होकर खेलने में एक थिन लाइन है। काफी बार वे 90 रन के बाद केयरलेस शॉट खेलकर आउट हो गए। उनके पास 100 करने का पूरा मौका था, इसके लिए उन्हें थोड़ा संभलकर खेलने की जरूरत थी। वे बड़े शॉट के लिए गए और अपना विकेट गंवा बैठे।

”पंत की एक समस्या उनका शॉट सिलेक्शन है”
गावस्कर ने कहा कि पंत की बस एक समस्या है और वह है शॉट सिलेक्शन। इसके अलावा वह एक शानदार बल्लेबाज हैं। उनके पास डिफेंस की सारी तकनीक है। साथ ही क्लास भी है। वे बैटिंग के वक्त जब प्रॉपर शॉट लगाते हैं, तो देखकर मजा आ जाता है। पंत WTC फाइनल में दूसरी पारी में भारत की ओर से हाईएस्ट स्कोरर रहे थे। दूसरी पारी में वे बड़े शॉट के लिए गए और बॉल उनके बैट का टॉप एज लेकर हेनरी निकोल्स के पास चली गई।

विराट ने किया था पंत का सपोर्ट
टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने हालांकि, पंत को सपोर्ट किया था। उन्होंने पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन सेरेमनी में कहा कि पंत को जब भी मौका मिलेगा, वे बेहद खतरनाक बैट्समैन हैं। जब भी टीम मुश्किल में होती है, वह गेम को अच्छे से रीड करते हैं। अगर कभी चीजें सफल नहीं हो पाती, तो कह सकते हैं कि गलती हुई है, पर स्पोर्ट में ऐसा चलता रहता है।

”पॉजीटिव रहना ही पंत की सबसे बड़ी USP”
विराट ने कहा कि हम नहीं चाहते कि इस मैच के बाद पंत अपनी पॉजिटिविटी खोएं। वे किसी भी परिस्थिति में मैच बदल सकते हैं और टीम उनसे आगे भी यही उम्मीद रखती है। यही उनकी USP है। हम हमेशा एक टीम के रूप में उनके साथ हैं।

”पंत के गेम के बारे में उन्हें खुद सोचने दें”
विराट ने कहा कि पंत अपनी बल्लेबाजी से सामने वाली टीम को प्रेशर में डाल सकते हैं। यह उनका नैचुरल टैलेंट है। मुझे लगता है फाइनल में उनके गेम के बार में वे खुद एनलाइज करें, तो बेहतर होगा। उन्हें खुद सोचना है कि आगे भी वह ऐसे ही बल्लेबाजी करेंगे या कुछ बदलाव करेंगे। पंत का भविष्य उज्जवल है। वे आगे कई मौकों पर भारत के मैच विनर बन सकते हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *