मूवी रिव्यू: दमदार एक्शन और बेहतरीन डायलॉग से भरपूर है जॉन अब्राहम की ‘सत्यमेव जयते 2’ फिल्म, दिव्या कुमार खोसला का मिला पूरा सपोर्ट

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Movie Review: John Abraham’s Satyamev Jayate 2 Film Is Full Of Strong Action And Excellent Dialogues, Divya Kumar Khosla Got Full Support

एक घंटा पहले

मिलाप जावेरी के निर्देशन में बनी सत्यमेव जयते 2 फिल्म 25 नवम्बर को सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। ये फिल्म करप्शन के खिलाफ आवाज उठाने पर बनी है जिसमें जॉन अब्राहम तीन अलग-अलग किरदारों में हैं। एक तरफ जॉन ने जुड़वा भाइयों सत्या बलराम आजाद (होम मिनिस्टर)- जय बलराम आजाद (पुलिसवाले) का रोल प्ले किया है, वहीं तीसरा किरदार है इनके पिता दादा साहेब बलराम आजाद का।

कैसी है फिल्म की कहानी?

कहानी आजाद फैमिली के इर्द-गिर्द घूमती है, जहां सत्या एंटी करप्शन बिल पास करवाना चाहता है लेकिन पूरा अपोजीशन उसके खिलाफ है, जिसमें उसकी पत्नी विद्या यानी दिव्या कुमार खोसला भी शामिल है। किसान दादा साहब बलराम आजाद का पूरा परिवार भ्रष्‍टाचार मुक्‍त भारत चाहता है। उनके दोनों बेटे सत्‍य बलराम आजाद व जय बलराम आजाद भी पि‍ता के उस सपने को मूर्त रूप देने में जुटे रहते हैं। इस काम में उसकी पत्‍नी विद्या आजाद भी साथ देती है। दोनों भाई सत्‍या और जय गाजर मूली की तरह सिस्‍टम से भ्रष्‍टाचारियों को काटने में लगे रहते हैं।

दमदार डायलॉग से भरी पड़ी है फिल्म

जॉन के तीनों किरदारों की एंट्री और स्‍पीच में जॉन की पर्सनैलिटी झलकती है, जिसे दमदार बनाने के लिए इसमें दमदार डायलॉग ‘जिस देश की मैया गंगा है, वहां खून भी तिरंगा है’, ‘पंखे पर झूल रहा किसान है, गड्ढे में पूरा जहान है, फिर भी भारत महान है’ और ‘तन मन धन’ से बड़ा है ‘जण, गण, मन’।

एक्शन से भरपूर है फिल्म

डायलॉग और स्क्रीन प्ले दोनों में ही काफी एक्शन है। यानी फिल्म एक्शन के दीवानों के लिए फुल टाईम पास है। अब बात फिल्म की हीरोइन दिव्या कुमार खोसला की, तो इस फिल्म को बॉलीवुड में उनका कमबैक कहा जा सकता है।

करप्शन के खिलाफ आवाज उठाती फिल्म

फिल्म में फ्लाई ओवर के कोलेप्स होने, हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी से हो रही बच्चों की मौत, मिड डे मील जैसे कई ऐसे मुद्दे दिखाए गए हैं जिससे आम जनता इससे खुद को कनेक्ट कर सकेगी।

फिल्म का म्यूजिक बेहतरीन

फिल्म का म्यूजिक आपको थिरकने पर मजबूर करेगा। नोरा फतेही का चार्टबस्टर कुसू-कुसू गाना तो पहले ही लोगों की जुबान पर चढ़ा हुआ है, लेकिन इसे बड़ी स्क्रीन पर देखने का अपना अलग ही मजा है। स्क्रीनप्ले के लिहाज से फिल्म थोड़ी कमजोर रही है और एक्स्ट्रा मारधाड़ भी दर्शकों को थोड़ा इरिटेट कर सकती है लेकिन अगर आप जॉन के टिपिकल वाले फैन हैं तो आपको ये फिल्म जरूर पसंद आएगी।

खबरें और भी हैं…



Source link

Bollywood