पॉप दीवा का शॉकिंग स्टेटमेंट: ब्रिटनी स्पीयर्स ने कोर्ट से कहा- पिता के संरक्षण में मुझे जबरन ड्रग्स दी गई, न शादी कर सकती हूं न बच्चा

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Britney Spears Told The Court – I Was Forcibly Given Drugs Under The Protection Of My Father, I Can Neither Marry Nor Have A Child

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

ग्रैमी अवॉर्ड विजेता सिंगर ब्रिटनी स्पीयर्स ने अपनी गार्जियनशिप यानी संरक्षण को लेकर कोर्ट के सामने चौंकाने वाला बयान दिया है। करीब 13 साल से ब्रिटनी अपने पिता जेम्स पी स्पीयर्स के संरक्षण में हैं। वही उनके करियर और जीवन को लेकर फैसले करते हैं। ब्रिटनी ने अमेरिका के लॉस एंजिल्स की अदालत से कहा कि उनके इस अपमानजनक संरक्षण को खत्म किया जाए।

दरअसल, ब्रिटनी अपने पिता के संरक्षण में नहीं रहना चाहती हैं। उनका ये मामला अब अमेरिका में एक अभियान की शक्ल ले चुका है और ये पूरी दुनिया में फैल रहा है। इसे फ्री ब्रिटनी मूवमेंट का नाम दिया गया है। इस मूवमेंट को अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने भी समर्थन दिया है।

अपनी जिंदगी वापस चाहती हूं- ब्रिटनी
ब्रिटनी ने जज से कहा- पिछले 13 साल से उन्हें जबरदस्ती ड्रग्स दी गई। उनकी इच्छा के विरुद्ध काम करने को मजबूर किया गया। इतना ही नहीं उन्हें बर्थ कंट्रोल डिवाइस अपने शरीर से हटाने से भी रोका गया। मैं इस गार्जियनशिप में तिरस्कार में हूं। मैं चकित हूं और तनाव में हूं। मैं अपनी जिंदगी वापस चाहती हूं। अगर मैं काम कर सकती हूं तो मुझे संरक्षण में नहीं रहना चाहिए। मैं इस संरक्षण को अपमानजनक मानती हूं। मैं ऐसा महसूस नहीं करती कि मैं पूरी जिंदगी जी रही हूं।

IUD डिवाइस लगाई ताकि प्रेग्नेंट न हो सकूं
ब्रिटनी ने अदालत से कहा, “मैं आगे बढ़ना चाहती हूं। शादी करना और बच्चा पैदा करना चाहती हूं। मुझे संरक्षण के दौरान बताया गया कि मैं बच्चा पैदा नहीं कर सकती और न शादी कर सकती हूं। मेरे भीतर एक IUD डिवाइस लगाई गई है ताकि मैं गर्भवती न हो सकूं। मैं इस डिवाइस को बाहर निकालना चाहती हूं ताकि एक और बच्चा पैदा कर सकूं। लेकिन, इस तथाकथित टीम ने मुझे डॉक्टर के पास नहीं जाने दिया, वे नहीं चाहते कि मैं प्रेग्नेंट हो सकूं। ऐसे में ये संरक्षण मुझे फायदे से ज्यादा नुकसान पहुंचा रहा है।’

उन्होंने कहा कि मैं एक जिंदगी का हक रखती हूं। मैंने अपने पूरे जीवन काम किया है। मैं दो-तीन साल का ब्रेक चाहती हूं। मैं चाहती हूं कि जो मेरा मन करे वो मैं करूं। मुझे लगता है कि मैं बैसाखी के सहारे हूं। आज मैं आपसे इस बारे में बात करते हुए सहज हूं। मैं आपसे ही फोन पर बात करना चाहती हूं, क्योंकि जब मैं इस फोन से हटती हूं तो मुझे सिर्फ और सिर्फ न सुननी पड़ती है। तभी मैं सोचती हूं कि मुझे सताया जा रहा है और मैं अकेला महसूस करने लगती हूं। मुझे भी दूसरों की तरह कुछ अधिकार चाहिए। मुझे परिवार, बच्चे और दूसरी चीजें चाहिए।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *