देश के सबसे बड़े IPO को सेबी की मंजूरी: पेटीएम का 16,600 करोड़ रुपए जुटाने का प्लान, नवंबर के मध्य तक हो सकती है लिस्टिंग

मुंबई13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

डिजिटल पेमेंट और फाइनेंशियल सर्विस फर्म पेटीएम को इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO) के लिए मार्केट रेगुलेटर सिक्योरिटी बोर्ड एक्सचेंज ऑफ इंडिया (SEBI) की मंजूरी मिल गई है। IPO के माध्यम से पेटीएम की 16,600 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कंपनी नवंबर के मध्य तक लिस्ट हो सकती है।

भारत का अब तक का सबसे बड़ा IPO लेकर आ रहा पेटीएम अगर अपने 16,600 करोड़ रुपए के लक्ष्य को पूरा कर लेता है, तो यह 2013 में कोल इंडिया लिमिटेड के जुटाए गए 15,000 करोड़ रुपए से आगे निकल जाएगा।

फ्रेश इक्विटी और ऑफर-फॉर-सेल से रकम जुटाएगा
पेटीएम का प्लान फ्रेश इक्विटी के माध्यम से 8,300 करोड़ रुपए और ऑफर-फॉर-सेल के माध्यम से 8,300 करोड़ रुपए जुटाने का है। पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा और अलीबाबा ग्रुप की कंपनियां प्रस्तावित ऑफर-फॉर-सेल में अपनी कुछ हिस्सेदारी कम करेंगी। ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) में कंपनी के शेयर की कीमत और किसी भी शेयरधारक के हिस्सेदारी कम करने के प्रतिशत की जानकारी नहीं दी गई है।

अलीबाबा के एंट ग्रुप की 29.71% हिस्सेदारी
पेटीएम के शेयरहोल्डर्स में अलीबाबा के एंट ग्रुप (29.71%), सॉफ्टबैंक विजन फंड (19.63%), सैफ पार्टनर्स (18.56%) और विजय शेखर शर्मा (14.67%) शामिल हैं। कंपनी में एजीएच होल्डिंग, टी रो प्राइज, डिस्कवरी कैपिटल और बर्कशायर हैथवे की 10% से भी कम हिस्सेदारी है।

ये निवेशक अपनी हिस्सेदारी कम करेंगे
डॉक्यूमेंट के अनुसार, हिस्सेदारी बेचने वाले निवेशकों में एंटफिन (नीदरलैंड्स) होल्डिंग BV, अलीबाबा.कॉम सिंगापुर ई-कॉमर्स प्राइवेट लिमिटेड, एलिवेशन कैपिटल V FII होल्डिंग्स लिमिटेड, एलिवेशन कैपिटल V लिमिटेड, सैफ III मॉरीशस कंपनी लिमिटेड, सैफ पार्टनर्स इंडिया IV लिमिटेड , SVF पैंथर (केमैन) लिमिटेड और BH इंटरनेशनल होल्डिंग्स शामिल हैं।

आईपीओ के लीड बुक-रनिंग मैनेजर
ड्राफ्ट प्रॉस्पेक्टस के अनुसार, पेटीएम IPO के लीड बुक-रनिंग मैनेजर जेपी मॉर्गन चेस, मॉर्गन स्टेनली, ICICI सिक्योरिटीज, गोल्डमैन सैक्स, एक्सिस कैपिटल, सिटी और HDFC बैंक हैं।

पेमेंट इकोसिस्टम को मजबूत किया जाएगा
पेटीएम की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशन्स लिमिटेड ने कहा कि IPO की आय का उपयोग अपने पेमेंट इकोसिस्टम को मजबूत करने और नए बिजनेस इनिशिएटिव के लिए किया जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Business